Pages

हम आपके सहयात्री हैं.

अयं निज: परो वेति गणना लघुचेतसाम्, उदारमनसानां तु वसुधैव कुटुंबकम्

Friday, December 31, 2010

उल्लेखनीय संकल्प !

मेरे लिए नववर्ष का आरम्भ एक गंभीर चिंतन का अवसर होता है. हर नये साल में बधाइयों एवं शुभकामनाओं के बीच एक संकल्प भी लिया जाता रहा है. लिए गए संकल्पों के बाद क्या हमने अपनी बिखरी शक्तियों का संचय कर उचित दिशा में इसका प्रयोग किया है? यह सवाल भी कभी कभी हमारे चिंतन  का विषय होता है, परन्तु यह हर वर्ष हो इसकी गारंटी नहीं है.
जैसा कि अधिकांश ये होता आया है "संकल्पों पर दृढ़ता से कायम न रहना", और यही हुआ भी. आज तीन साल बाद फिर एक दृढ संकल्प लेने और उनपर सख्ती से अम्ल करने की जरुरत महसूस हो रही है. इसका मतलब साफ़ है आने वाले वर्ष में एक श्रमजीवी के रूप में कुछ उल्लेखनीय कार्य करने ही होंगे.

यह तो हुई मेरी बात. जो कि तय है मैं अवश्य करूँगा. अब बात करते हैं कुछ औरों की, जिन्होंने इस मौके पर कुछ अच्छे संकल्प लिए हैं (?)

पाकिस्तान - " हम संकल्प लेते हैं आइन्दा अमेरिका से कोई मदद नहीं  लेंगे, हमें इसकी जरुरत नहीं होगी क्यूंकि चीन ने भारतविरोधी अभियानों में मदद करने का वादा किया है"

अमेरिका - "हम अपने पैसो और ताकतों का इस्तेमाल सिर्फ और सिर्फ लोकहित में कल्याणकारी योजनाओं में  करेंगे. युद्ध से हमारा कोई रिश्ता नहीं होगा. हाँ दुनिया भर के देशो में उनके किसी विवादों के बीच मध्यस्थता करने वाले एजेंटों को उचित पारिश्रमिक  देते रहेंगे. भारी मेहनताना सिर्फ उन्ही एजेंटों को मिलेगा जो  विवादों को जीवनभर निभायेंगे"

मनमोहन सिंह - "मैं संकल्प लेता हूँ अब नए साल से अपने देशवासियों को कोई शिकायत का मौका नहीं दूंगा. मैं अपनी चुप्पी तोरुंगा, किसी भी मामले में कोई भी ब्यान देने से पहले मैं सोनिया जी से परामर्श नहीं लूँगा. मैं सिर्फ राहुल बाबा से अनुमति लेना जरुरी समझूंगा"
********************************************************

आप सभी ब्लोगर साथियों के लिए नया साल शुभ और प्रगति-दायिनी हो. हार्दिक शुभकामनाएं !!!


- सुलभ

30 comments:

Mukesh Kumar Sinha said...

ham bhi ye sankalp lete hain ki apne charo aur ki duniya ko sukhmay banayenge..........:)

Mukesh Kumar Sinha said...

aur aapko nav varsh ki subhkamnaon ke saath vida lenge............

संजय भास्कर said...

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ

संजय भास्कर said...

खुशियों भरा हो साल नया आपके लिए

संजय भास्कर said...

आपको और आपके परिवार को मेरी और से नव वर्ष की बहुत शुभकामनाये ......

Satish Chandra Satyarthi said...

और किसी का संकल्प पूरा हो न हो मनमोहन बाबा का जरुर होगा..
आपको नए साल की शुभकामनाएं...

ѕнαιя ∂я. ѕαηנαу ∂αηι said...

सुन्दर अभिव्यक्ति के लिये धन्यवाद के साथ आपको और आपके ब्लाग के सभी साथियों को नववर्ष की शुभकामनायें।

डॉ टी एस दराल said...

बहुत सुन्दर । आपको भी नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ।

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर संकलप जी लेकिन मनमोहन जी तो वफ़ा दार हे अपने मालिक के ,

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...

प्रिय बंधुवर सुलभ जी
नमस्कार !
उल्लेखनीय संकल्प !पोस्ट बहुत प्रेरक भी है और रोचक भी । आभार …


~*~नव वर्ष २०११ के लिए हार्दिक मंगलकामनाएं !~*~

शुभकामनाओं सहित
- राजेन्द्र स्वर्णकार

राज भाटिय़ा said...

आप को परिवार समेत नये वर्ष की शुभकामनाये.

lokendra singh rajput said...

सुलभ जी क्या जबरदस्त संकल्प हैं......
आपको २०११ की हार्दिक शुभकामनाएं। नववर्ष तो मैं वर्ष प्रतिपदा पर मनाता हूं तो नववर्ष की शुभकामनाएं तब ही दूंगा.... फिलहाल ईश्वर से कामना है कि आप खुश रहें और अपनी बेहतरीन रचनाओं से ब्लॉक पाठकों को खुश रखें।

RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA said...

आपको नववर्ष 2011 मंगलमय हो ।
ब्लाग पर आना सार्थक हुआ ।
काबिलेतारीफ़ है प्रस्तुति ।
आपको दिल से बधाई ।
ये सृजन यूँ ही चलता रहे ।
साधुवाद...पुनः साधुवाद ।
satguru-satykikhoj.blogspot

क्रिएटिव मंच-Creative Manch said...

ख़ुशी जो आज चेहरे पर खिली है
रहे सारे बरस ये जगमगाहट
चलो मांगे दुआ सच्चे ह्रदय से
सभी को हो मयस्सर मुस्कराहट

आपको नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं


**************************
'सी.एम.ऑडियो क्विज़'
हर रविवार प्रातः 10 बजे
**************************

पी.सी.गोदियाल "परचेत" said...

आपको और आपके परिवार को मेरी और मेरे परिवार की और से एक सुन्दर, सुखमय और समृद्ध नए साल की हार्दिक शुभकामना ! भगवान् से प्रार्थना है कि नया साल आप सबके लिए अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और शान्ति से परिपूर्ण हो !!

आशीष/ ਆਸ਼ੀਸ਼ / ASHISH said...

:)
:)
:)
Ashish

मनोज कुमार said...

सर्वस्तरतु दुर्गाणि सर्वो भद्राणि पश्यतु।
सर्वः कामानवाप्नोतु सर्वः सर्वत्र नन्दतु॥
सब लोग कठिनाइयों को पार करें। सब लोग कल्याण को देखें। सब लोग अपनी इच्छित वस्तुओं को प्राप्त करें। सब लोग सर्वत्र आनन्दित हों
सर्वSपि सुखिनः संतु सर्वे संतु निरामयाः।
सर्वे भद्राणि पश्यंतु मा कश्चिद्‌ दुःखभाग्भवेत्‌॥
सभी सुखी हों। सब नीरोग हों। सब मंगलों का दर्शन करें। कोई भी दुखी न हो।
बहुत अच्छी प्रस्तुति। नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं!

साल ग्यारह आ गया है!

हरकीरत ' हीर' said...

हर नये साल में बधाइयों एवं शुभकामनाओं के बीच एक संकल्प भी लिया जाता रहा है.

सही कहा ....नववर्ष की शुरुआत में शुभकामनाओं के साथ सभी को इक संकल्प भी लेना चाहिए ...
अपनी गलतियों ...कमजोरियों को दूर करने का .....

दिगम्बर नासवा said...

बहुत खूब सुलभ जी .... अच्छे संकल्प हैं अगर ये ले लें तब .... आपसे मिलना बहुत ही अच्छा लगा सुलभ जी ... आशा है मुलाकातों का सिलसिला चलता रहेगा .....
आपको और आपके समस्त परिवार को नव वर्ष मंगलमय हो ..

ललित शर्मा said...

भाई सुलभ जी,अबकी बार 2 दिन हम गुड़गाँव रहे लेकिन आपसे मुलाकात नहीं हूई:(

नूतन वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

डॉ. हरदीप संधु said...

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ

वीना said...

वाह क्या संकल्प हैं दिलचस्प....आपको नव वर्ष की हार्दिक बधाई....

निर्झर'नीर said...

सार्थक चिंतन

हार्दिक शुभकामनाएं

Dr Varsha Singh said...

बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.

लता 'हया' said...

बहुत दिलचस्प है ये ''सँकल्प''
मैं अब काफ़ी ठीक हूँ ,
शुक्रिया.....दुआओं और प्रतिक्रियाओं का .

ZEAL said...

मनमोहन सिंह जी का संकल्प पढ़कर मुस्कराहट आ गयी।

रंजना said...

हा हा हा हा...बहुत सही...

सटीक कटाक्ष..

वीना said...

शायद सभी नए साल के आने पर संकल्प लेते हैं ये अलग बात है कि हिंदी कलेंडर के हिसाब से नया साल आना बाकी है वो तो सबको याद नहीं रहता..क्योंकि चलन में अंग्रेजी कलेंडर ही है और हमें उसी की आदत है...
नए वर्ष आपके संकल्पों को पूरा करे....

डॉ० डंडा लखनवी said...

जानदार और शानदार प्रस्तुति हेतु आभार।
=====================
कृपया पर्यावरण संबंधी इस दोहे का रसास्वादन कीजिए।
==============================
शहरीपन ज्यों-ज्यों बढ़ा, हुआ वनों का अंत।
गमलों में बैठा मिला, सिकुड़ा हुआ बसंत॥
सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

Udan Tashtari said...

कहाँ हो? कुछ नया नहीं लिख रहे?

लिंक विदइन

Related Posts with Thumbnails

कुछ और कड़ियाँ

Receive New Post alert in your Email (service by feedburner)


जिंदगी हसीं है -
"खाने के लिए ज्ञान पचाने के लिए विज्ञान, सोने के लिए फर्श पहनने के लिए आदर्श, जीने के लिए सपने चलने के लिए इरादे, हंसने के लिए दर्द लिखने के लिए यादें... न कोई शिकायत न कोई कमी है, एक शायर की जिंदगी यूँ ही हसीं है... "